Principal's Message

Education is a process of change in behavior. The aim of education is not just to fill the brain of students with a host of facts and figures but to develop personality of the individual to enable him to adapt to the changing physical and social environment.
In this scenario , it is the duty of ,"we teachers" to ensure desirable changes in the behavior of students and enrich them with knowledge and learning experiences by developing creative and critical thinking, the ability of experimentation , verification and drawing conclusion. The development of the nation is already embedded in process of building the personality of the next generation.
Kendriya Vidyalaya, Dhar is not only alert for its aim and duty but is committed to achieve the goals of KVS and fulfill its vision. I feel happy to take the responsibility to lead my team and "as a team” to be a part of the mission of KVS.

 

 

शिक्षा व्यवहार परिवर्तन की एक प्रक्रिया है।शिक्षा का वास्तविक उद्देश्य विद्यार्थी के मस्तिष्क में विविध प्रकार के आंकड़े और सूचनाएं भरना मात्र नहीं है वरण विद्यार्थी के व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास करना है ताकि वह स्वयं को बदलते भौतिक और सामाजिक वातावरण के अनुकूल बना सके।  
ऐसे में हम शिक्षकों का यह कर्त्वय हो जाता है कि हम विद्यार्थियों के व्यवहार में वांछनीय परिवर्तन लाना सुनिश्चित करें और उनमे रचनात्मक एवं विवेचनात्मक चिंतन ,प्रयोग, सत्यापन और निष्कर्ष निष्पादन की क्षमता विकसित कर , उन्हें मानवीय ज्ञान एवं अधिगम अनुभवों से समृद्ध करें। किसी राष्ट्र का निर्माण आने वाली पीढी के व्यक्तित्व पर ही निर्भर करता है। अतः इस तथ्य में दो राय नहीं है कि शिक्षा एक राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया है।
केंद्रीय विद्यालय धार अपने उद्देश्यों की प्राप्ति एवं कर्त्तव्य निर्वाह के प्रति सजग और प्रतिबद्ध है।मुझे अपनी विद्यालय टीम का नेतृत्व करते हुए अपार हर्ष हो रहा है और हम सब स्वयं को के.वि.एस. के मिशन का भाग होने पर गौरवान्वित महसूस करते हैं। 

Last Updated (Saturday, 25 August 2018 07:01)